NIOS BUSINESS STUDIES (215) | IMPORTANT QUESTIONS WITH ANSWERS- HINDI MEDIUM-20-21

 

BUSINESS STUDIES (215) 

IMPORTANT QUESTIONS WITH ANSWERS

प्रश्न:- संयुक्त पूंजी कंपनी की विशेषताएं क्या क्या है?  

 उत्तर:- संयुक्त पूंजी कंपनी की विशेषताएं निम्नलिखित हैं- 

i) कृत्रिम वैधानिक व्यक्ति: एक कंपनी, विधान द्वारा निर्मित एक कृत्रिम व्यक्ति है जो केवल विधि के चिंतन- अवलोकन से अस्तित्व में आता है। एक व्यक्ति जिस प्रकार जन्म लेता है बड़ा होता है, आपसी संबंध विकसित करता है और मृत्यु को प्राप्त होता है उसी प्रकार एक संयुक्त पूंजी कंपनी भी जन्म लेती है, बड़ी होती है, अपने आपसी संबंध विकसित करती है और अंततः मृत्यु को प्राप्त होती है। हालांकि इसे एक कृत्रिम व्यक्ति कहा जाता है, क्योंकि इसका जन्म, विकास और मृत्यु सब कुछ कानून द्वारा नियमित होता है। 

 ii) स्वतंत्र वैधानिक इकाई: कंपनी एक पृथक बढ़ाने की कहानी है जो अपने सदस्यों से भिन्न है। यह अपने नाम से संपत्ति रख सकती हैं, किसी से अनुबंध कर सकती है, यह दूसरों पर मुकदमा कर सकती हैं और दूसरे भी इस पर मुकदमा कर सकते हैं। 

 प्रश्न:- सहकारी समिति के क्या लाभ हैं? 

 उत्तर:- व्यवसायिक संगठन के सहकारी स्वरूप के निम्न लाभ है - 

i) स्वैच्छिक संगठन: यह एक स्वैच्छिक संगठन है जो पूंजीवादी तथा समाजवादी, दोनों प्रकार के आर्थिक तंत्रों में पाया जाता है। 

ii) लोकतांत्रिक नियंत्रण: एक सहकारी समिति का नियंत्रण लोकतांत्रिक तरीके से होता है। इसका प्रबंधन लोकतांत्रिक होता है तथा ' एक व्यक्ति- एक मत' की संकल्पना पर आधारित होता है। 

iii) खुली सदस्यता: समान हितों वाले व्यक्ति सहकारी समिति का गठन कर सकते हैं। कोई भी सक्षम व्यक्ति किसी भी समय सहकारी समिति का सदस्य बन सकता हैं। और जब चाहे स्वेच्छा से समिति की सदस्यता को छोड़ भी सकता है। 

 प्रश्न:- सहकारी समिति कितने प्रकार के हैं?  

 उत्तर: सहकारी समितियों के मुख्य प्रकार निम्नलिखित है: 

i) उपभोक्ता सहकारी समितियां 

ii) उत्पादक सहकारी समितियां 

iii) सहकारी विपणन समितियां 

iv) सहकारी सामूहिक आवाज समितियां,  

 प्रश्न:- सहकारी समितियों की विशेषताएं क्या क्या है?लिखो।  

 उत्तर: सहकारी समितियों की विशेषताएं निम्नलिखित है-

i) स्वैच्छिक संस्था: एक सहकारी समिति व्यक्तियों की एक स्वैच्छिक संस्था है।एक व्यक्ति किसी भी समय सहकारी समिति का सदस्य बना सकता है, जब तक चाहे उसका सदस्य बना रह सकता है और जब चाहे सदस्यता छोड़ सकता है। 

ii) खुली सदस्यता: सहकारी समिति की सदस्यता समान ही तो वाले सभी व्यक्तियों के लिए खुली होती हैं। जाति, लिंग, वर्ण अथवा धर्म के आधार पर सदस्यता प्रतिबंधित नहीं होती,परंतु किसी विशेष संगठन के कर्मचारियों की संख्या के आधार पर सीमित हो सकती हैं। 

 प्रश्न:- एकल स्वामित्व की परिभाषा दीजिए। 

 उत्तर:- एकल स्वामित्व ऐसा व्यवसाय संगठन है जिसमें एक ही व्यक्ति स्वामी होता है और वही व्यवसाय से जुड़ी गतिविधियों का संचालन और प्रबंधन करता है। व्यवसाय का समस्त अधिकार और उत्तरदायित्व उसी का होता है और जोखिम भी वही उठाता है। 

NIOS NOTES ALSO PROVIDED 

CONTACT NO.8638447739,WHATSAPP NO.9085652867

Post a Comment

0 Comments